दूदू में तीनों मृतक बहिनों, के दहेज हत्या के आरोप में पांच गिरफ्तार: पिछले तीन दिन से लापता तीन बहनों व दो छोटे बच्चों के सनसनीखेज मामले का खुलासा, दहेज हत्या व दहेज प्रताड़ना के 05 आरोपी गिरफ्तार

0
3583
मृतक तीन सगी बहनों एवं दो बच्चों के दहेज हत्या के आरोपी

दूदू/मुकेश कुमार। कस्बे से पीछले चार दिन से लापता तीन बहनों व दो बच्चों के सनसनीखेज़ मामले का पुलिस ने खुलासा कर पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। 25 मई 2022 को परिवादी सरदार मल पुत्र बोदूराम जाति मौणा उम्र 63 साल निवासी छप्या थाना दूदू जिला जयपुर में रिपोर्ट दर्ज कराई की मेरी तीन बेटिया कालू देवी ममता देवी कमलेश देवी की शादी मीणो का मोहल्ला दूदू में लाल मीना के बेटो के साथ की थी 25 मई 2022 को दोपहर में मेरी तीनो बेटिया व इनके साथ दो बच्चे जो एक चार साल का व एक 20 दिन का घर से बिना बताये कही चले गये। जिस पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर तलाश गुमशुदा प्रारंभ की गई। दौराने तलाश ही 26 मई 2022 को परिवादी सरदार मीणा के द्वारा मामला दर्ज करवाया की मेरी तीन पुत्रियों की शादी दूदू निवासी भंवरलाल के तीन पुत्र नरसी, गौरव उर्फ जगदीश, मुकेश के साथ हुयी थी, तीनों बहनों को दहेज व गाडी लाने के लिये आये दिन मारपीट व परेशान करते थे। 25 मई 2022 को सुबह मेरे पास छोटी पुत्री कमलेश का फोन आया कि पापा हमारे को मेरी सासु, जेठानी व नरसी, गौरव, मुकेश 5-7 अन्य लोग हम तीनों बहनों के साथ मारपीट कर रहे है। और हमारे को ये लोग जान से मार देंगे, आप आकर बचा लो, जब मैं दूदू गया तब ससुराल वालों से पूछा तो 5-7 लोग व ससुराल वाले गाली गलोच करने लग गये बोले मर गयी, हमारे को कोई पता नहीं है यहां से चला जा, वरना तु मरेगा, उसके बाद से तीनों लड़कियों का कोई पता नहीं चल रहा, बड़ी पुत्री कालू के 2 लड़के जो कि एक 4 साल का दूसरा 22 दिन का ममता व कमलेश 8-9 महिने की गर्भवती है।

गुमशुदा मृतक तीनों सगी बहनें

पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर अनुसंधान प्रारम्भ किया। जयपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल द्वारा तीन सगी बहनो व दो छोटो बच्चों के गुम होने के मामले को अत्यंत ही गंभीरता से लिया जाकरदूदू अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दिनेश शर्मा, उप पुलिस अधीक्षक अशौक चौहान के नेतृत्व में अलग-अलग टीमें दूदू थाना अधिकारी चेतराम डागर, मौजमाबाद थाना अधिकारी रमेश सिंह तंवर, नरैना थाना अधिकारी हनुमान सहाय, जोबनेर थाना अधिकारी राजीव कुमार, फागी थाना अधिकारी भंवर लाल, रेनवाल मांजी थानाधिकारी किरण, सांभर थाना अधिकारी पूरणमल यादप, फुलेरा थाना अधिकारी रघुवीर, डीएसटी राकेश कुमार, रामावतार पु.नि. कार्यालय पुलिस अधीक्ष जिला जयपुर ग्रामीण लक्ष्मी उ.नि. पुलिस थाना दूदू व अन्य थानों की और टीमें गठित कर कुल 14 टीमें गठित की गई। गठित टीमों के साथ अपने- अपने थाने का जाप्ता लगाया गया। पुलिस लाईन जिला जयपुर ग्रामीण से श्री रामस्वरूप उ.नि. के नेतृत्व में 20 हैड कानि / कानि. का जाप्ता आर. ए. सी. फागी एवम् आर.ए.सी. दूदू का 20 हैंड कानि./कानि का जाप्ता व अन्य थानों से जाप्ता तलाश में लगाया गया। लगभग 200 अधिकारी/कर्मचारियों को लापता तीन बहनों व दो छोटे बच्चों की तलाश में लगाया गया । प्रत्येक दिन गठित टीमों को पुलिस अधीक्षक द्वारा बहुत ही कुशल व निकट सुपरविजन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दूदू तलाश के लिए अलग-अलग टास्क दिये गये। पल-पल की मोनिटरिंग की गई सभी संदिग्धों के संबंध में वैज्ञानिक व यांत्रिक तरीके से बहुत ही गहनता से साक्ष्य प्राप्त किये गये। कस्बा दूदू व आस-पास के क्षेत्रों में लगभग 500 सीसीटीवी कैमरो के फुटेज देखे गये । दूदू किशनगढ़, म़माण, बगरु व सेवा के सीसीटीवी कैमरों का अध्ययन किया गया। गुमशुदा कमलेश के गुम होने के दूसरे दिन ही डीलीवरी की तारिख होने की जानकारी करने पर कस्बा दूदू के अलावा आस-पास के किशनगढ़, नरैना जोबनेर फुलेरा बगरु फागी एवम जयपुर शहर के समस्त अस्पतालों में इस संबंध में जानकारी की गई। प्रत्येक पहलु की घटना के बाद से ही बहुत ही बारिकी से मोनिटरिंग कर निर्देश दिये जाते रहे । सम्पुर्ण टीमों द्वारा अपने-अपने स्तर पर तलाश करने की प्रत्येक दिन सांयकाल दूदू थाने में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक / पुलिस उप अधीक्षक द्वारा सभी टीम अधिकारियों की मिटिंग की जाकर दिन की तलाश की प्रोग्रेस व आगामी टास्क जिला पुलिस अधीक्षक के निकट सुपरविजन में दिये जाकर तलाश की प्रक्रिया को निरन्तर गतिमान बनाये रखा। उपरोक्तानुसार अथक प्रयास के बाद बहुत लम्बी दूरी के क्षेत्र में चेतराम पु.नि. थानाधिकारी थाना दूदू के नेतृत्व में सम्पूर्ण रिजर्व जाप्ता व ग्रामीणों का सहयोग लेकर संभावित स्थानों पर तलाश की तो उक्त तीनो गुमशुदा महिलाओं व दो बच्चों के शव एक निर्जन जगह बिलायती बबूलों के बिच बने दूदू की तन में स्थित गंगा सागर तालाब की नहर के पास एक कुए में मिले। मौके पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दूदू पुलिस उप अधीक्षक द् एवम् अन्य अधिकारीगण व अन्य पुलिस जाप्ता मौके पर पहुंचा। मौके पर एफ. एस. एल. टीम, एम.ओ.बी. टीम बुलाई गई एवम् एस.डी.आर.एफ. के दस्ते को मौके पर बुलाया गया। एस.डी.आर.एफ. दस्ते द्वारा कड़ी मेहनत कर उनके पास उपलब्ध संसाधनों से शव को कुँए से बाहर निकालने में कामयाबी हासिल की। एफ. एस. एल. टीम व एम.ओ.बी. टीम द्वारा मौके पर साक्ष्य एकत्रित किये गये मौके की फोटाग्राफी की गयी। मृतकों के शर्तों की स्थिति को देखते हुए मौके पर ही मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया। सभी वजह सबुत प्राप्त किये मेडिकल बोर्ड द्वारा विसरा व डायटम टेस्ट व अन्य वजह सबूत जब्त किये। मौके पर अनुसंधान प्रक्रिया पूर्ण की। मौके पर ही परिवादी के पुत्र बनवारी लाल द्वारा पूर्व में दर्ज कराये गये। अभियोग के क्रम अनुसंधान अशोक चौहान उप पुलिस अधीक्षक दूदू को सुपुर्द किया गया। मृतकों के शव बाद विधिक कार्यवाही के अन्तिम संस्कार हेतु परिजनों को सुपुर्द किये गये। घटना की गंभीरतो को देखते हुए पुलिस अधीक्षक जयपुर ग्रामीण भी मौके पर पधारे जिनके द्वारा अनुसंधान के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये । पोस्टमार्टम के बाद शव को दाह संस्कार ग्राम छप्या में किया गया। पुलिस अधीक्षक जिला जयपुर ग्रामीण, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दूदू पुलिस उप अधीक्षक दूदू थानाधिकारी दूदू मौजमाबाद, किशनगढ रेनवाल, नरैना जमवारामगढ व अन्य अधिकारीगण मौके की कार्यवाही के समय पोस्टमार्टम के समय एवम मृतकों के दाह-संस्कार के समय उपस्थित रहे। अभियोग में पुलिस उप अधीक्षक महोदय द्वारा सम्पूर्ण अनुसंधान प्रक्रिया से नीचे अंकित आरोपियान के विरुद्ध दहेज प्रताड़ना दहेज हत्या के आरोप प्रमाणित पाये जाने पर आज देर रात्री आरोपियों अनुसंधान के बाद गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। इस पूरे प्रकरण में समय-समय पर कानून व्यवस्था की विषम परिस्थितियां होने की भी संभावना बनी लेकिन अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दूदू व पुलिस उप अधीक्षक द् एवम् पुलिस जाप्ता द्वारा पुलिस द्वारा किये जा रहे कार्य की पूर्ण जानकारी देकर पुलिस के प्रति विश्वसनीयता बनाई रखी एवम् लोगों को पुलिस द्वारा किये जा रहे कार्य की जानकारी समय-समय पर दी जाकर कानून व्यवस्था बनाये रखी। घटना की कड़ी से कड़ी जोड़कर अनुसंधान किया जा रहा है। आरोपियों से गहनता से अनुसंधान किया जा रहा है।

गिरफ्तार व्यक्तिः

1. नरसिंह पुत्र भंवरलाल जाति मीणा उम्र 29 साल निवासी मीणों का मौहल्ला दूदू (मृतका काली का पति) 2. जगदिश उर्फ गोरुराम पुत्र भंवरलाल जाति मीणा उम्र 27 साल निवासी मीणों का मौहल्ला दूदू (मृतका ममता का पति) 3. मुकेश मीणा पुत्र भँवरलाल जाति मीणा उम्र 25 साल निवासी मीर्णो का मौहल्ला दूदू (मृतका कमलेश का पति) 4. संतोष पत्नि भंवरलाल जाति मौणा उम्र 62 साल निवासी मौणों का मौहल्ला दूदू (तीनों मृतकों की सास) 5. मीना देवी पत्नि जितेन्द्र जाति मीणा उम्र 32 साल निवासी मीणों का मौहल्ला दूदू तीनों मृतकों की जेठानी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here